• Sat. Jul 20th, 2024

    INDIA TODAY ONE

    Knowledge

    स्वास्थ्य की परिभाषा क्या है – प्रकार और महत्व | 1

    स्वास्थ्य की परिभाषा

    ‌हेलो दोस्तों INDIA TODAY ONE Blog पर आप सभी स्वागत है। इस लेख में हम स्वास्थ्य की परिभाषा क्या है तथा स्वास्थ्य से संबंधित कुछ प्रश्नों के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे, मैं आपको बताऊंगा कि हमारे जीवन में स्वास्थ्य का क्या महत्व है। व स्वास्थ्य कितने प्रकार का होता है। तथा W.H.O के अनुसार स्वास्थ्य के कितने निर्धारक होते हैं इन्हीं कुछ प्रश्नों के बारे में हम जानेंगे जैसा कि आप जानते हैं स्वास्थ्य कि हमारे जीवन में कितनी महत्वता है तो स्वास्थ्य से संबंधित इन्ही कुछ प्रश्नों के बारे में जानकारी होना हमारे लिए बहुत जरूरी है।

    और मैं आपको बताऊंगा कि W.H.O ने स्वास्थ्य को किस प्रकार परिभाषित किया है। W.H.O के अनुसार स्वास्थ्य की परिभाषा क्या है चलिए इन्हीं कुछ प्रश्नों पर चर्चा करते हैं।

    स्वास्थ्य की परिभाषा क्या है ?

    स्वास्थ्य की परिभाषा

    • मनुष्य का शरीर सामाजिक,शारीरिक और मानसिक रूप से तनाव रहित तथा विकार रहित होना ही स्वास्थ्य है। अर्थात स्वास्थ्य (हेल्थ) कहलाता है

    WHO( World Health Organisation)  के अनुसार स्वास्थ्य की परिभाषा :-

    स्वास्थ्य की परिभाषा

     

    • स्वास्थ्य (हेल्थ) को WHO ने 1948 में परिभाषित किया था कि स्वास्थ्य एक ऐसी अवस्था है जिसमें मनुष्य का शरीर सामाजिक,शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ हो तथा शरीर में किसी भी प्रकार की बीमारी व विकार ना हो तो इसे ही स्वास्थ्य (हेल्थ) कहते हैं।

    👉 ‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌यह भी पढ़ें

    स्वास्थ्य के प्रकार :-

    सामान्यता स्वास्थ्य के चार प्रकार होते है।

    शारीरिक स्वास्थ्य (physical health) :-

    • शारीरिक स्वास्थ्य को हम इस प्रकार से परिभाषित कर सकते हैं जैसे शरीर के सभी अंगो का सामान्य रूप से कार्य करना व गतिशील और वृद्धि होना ही शारीरिक स्वास्थ्य (physical health) कहलाता है।
    • उदाहरण÷ अच्छी नींद आना, अच्छी भूख लगना, त्वचा का स्वस्थ होना, शरीर का भार सामान्य रहना तथा ब्लड प्रेशर सामान्य रहना।

    मानसिक स्वास्थ्य (mental health) :-

    • WHO के अनुसार यह संतुलन की एक अवस्था है वह व्यक्ति जो जीवन में सामान्य तनाव का सामना करने में सक्षम हो तथा सही व गलत का निर्णय लेने में पूर्ण सक्षम हो और अपने समाज के प्रति योगदान करने में सक्षम हो इसे ही मानसिक स्वास्थ्य (mental health)  कहते हैं।

    सामाजिक स्वास्थ्य (social health) :-

    • सामाजिक स्वास्थ्य (social health) को हम पर्यावरण व समाज से जुड़े संबंधों के आधार पर परिभाषित किया जा सकता है जैसे समाज में लोगों से अच्छे संबंध स्थापित करना वातावरण परिस्थितियों में अपने आप को ढालना आदि।

    आध्यात्मिक स्वास्थ्य (spiritual health) :-

    • आध्यात्मिक स्वास्थ्य (spiritual health) सभी के लिए अलग-अलग होती है जीवन के साथ शांति महसूस करने पर अध्यात्मिक स्वास्थ्य प्राप्त होता है यह तब होता है जब आप सबसे कठिन समय में भी आशा का अनुभव करते हैं।

    स्वास्थ्य के निर्धारक (Determinants of health) :-

    WHO ने पहचान किया है कि हैल्थ के कम से कम 6 निर्धारक होते हैं।

    • आय और सामाजिक स्थिति (Income and social status)
    • शिक्षा (education)
    • सामाजिक वातावरण (social environment)
    • भौतिक वातावरण (physical environment)
    • व्यक्तिगत स्वास्थ्य अभ्यास (personal health practices)
    • स्वास्थ्य सेवा (health services)

    स्वास्थ्य के महत्व :-

    मोटा आदमी ही स्वस्थ हो यह जरूरी नहीं है कि दुबला पतला व्यक्ति भी स्वस्थ रह सकता है।

     1. जीवन में सफलता पाने के लिए अच्छा स्वास्थ्य बहुत जरूरी है।

     2. यदि विद्यार्थी स्वस्थ नहीं होगा तो पढ़ने में मन नहीं लगेगा वह हमेशा अपनी कमजोरी महसूस करेगा।

     3. संतुलित भोजन से स्वास्थ्य अच्छा रहता है सभी को अपने भोजन में प्रोटीन विटामिन और आवश्यक खनिजों को शामिल करना चाहिए।

     4. अच्छे स्वास्थ्य के लिए हमें समय पर भोजन करना चाहिए जिससे हमारी पाचन शक्ति अच्छी बनी रहे।

     5. मानव जीवन का सच्चा सुख उसके स्वास्थ्य में निहित है स्वस्थ मानव इस संसार में हर प्रकार के सुख भोग सकता है।

     6. उत्तम स्वास्थ्य के कारण कोई भी मनुष्य जटिल से जटिल कार्य को भी सरलता से कर सकता है।

     7. स्वस्थ मनुष्य में अदम्य साहस, उत्साह और धर्म की भावना असंख्य मात्रा में भरी होती है।

     8. स्वस्थ मनुष्य में अत्यधिक आत्मविश्वास होता है जिसके कारण उसका हृदय सदैव फूलों के सामान खिला रहता है।

    स्वास्थ्य अनमोल खजाना :-

     9.जिन व्यक्तियों के पास स्वास्थ्य रूपी खजाना नहीं होता है वह धनवान होते हुए भी अपने जीवन को भार समझते हैं उनके लिए घर में बने स्वादिष्ट व्यंजन जहर के समान होते हैं।वह स्वादिष्ट व्यंजन खाना तो चाहते हैं लेकिन अस्वस्थ होने के कारण खा नहीं पाते अतः शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए हमें नित्य प्रतिदिन व्यायाम करना चाहिए।

    स्वस्थ शरीर में जीवन का सुख :-

     11. इस प्रकार यदि सुख के साथ जीना है तो शरीर को स्वस्थ रखना परम आवश्यक है स्वस्थ रहने के लिए हमें प्राकृतिक चीजों से नाता जोड़ना होगा और आप अपकृतिक चीजों को त्याग कर ही हम स्वस्थ जीवन व्यतीत कर सकते हैं।

     12. अन्य प्रकार के दूषित पदार्थों का सेवन, गरिष्ठ व्यंजन, क्षतिग्रस्त जल, वायु में रहना, यह सब चीजें हमारे स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव डालती हैं, इसलिए हमें इससे बचना चाहिए और अपने जीवन और स्वास्थ्य की रक्षा करनी चाहिए।

     13. व्यायाम के द्वारा मनुष्य हमेशा स्वस्थ रहता है स्वस्थ मनुष्य संसार के सुंदर एवं मन को आकर्षित करने वाले पर्यटक स्थलों को सरलता से देख सकता है

    CONCLUSION

    • दोस्तों मैं इस लेख के अंत में अपना अनुभव बताता हूं। इस बात पर हम चर्चा कर चुके हैं कि स्वास्थ्य की परिभाषा क्या है किंतु सुख के साथ जीना है तो शरीर को स्वस्थ रखना परम आवश्यक है स्वस्थ रहने के लिए हमें प्राकृतिक चीजों से नाता जोड़ना होगा और अप्राकृतिक चीजों को त्याग कर ही हम स्वस्थ जीवन व्यतीत कर सकते हैं। 

    FAQ

    Ques 1. शारीरिक स्वास्थ्य की परिभाषा क्या है?

    Ans. शारीरिक स्वास्थ्य को हम इस प्रकार से परिभाषित कर सकते हैं जैसे शरीर के सभी अंगो का सामान्य रूप से कार्य करना व गतिशील और वृद्धि होना ही शारीरिक स्वास्थ्य (physical health) कहलाता है।

    Ques 2. स्वास्थ्य के प्रकार कितने प्रकार का होता है?

    Ans. सामान्यता स्वास्थ्य के चार प्रकार होते है।

    • शारीरिक स्वास्थ्य (physical health) 
    • मानसिक स्वास्थ्य (mental health) 
    • सामाजिक स्वास्थ्य (social health)
    • आध्यात्मिक स्वास्थ्य (spiritual health) 

    Ques 3. अच्छे स्वास्थ्य के क्या लक्षण होते हैं?

    Ans. अच्छे स्वास्थ्य के पांच लक्षण होते हैं।

    हमे बताया जाता है। कि सेहत ही दुनिया की सबसे मूल्यवान चीज है। जिन व्यक्तियों के पास स्वास्थ्य रूपी खजाना नहीं होता है वह धनवान होते हुए भी अपने जीवन को भार समझते हैं उनके लिए घर में बने स्वादिष्ट व्यंजन जहर के समान होते हैं।

      • अच्छी भोजन
      • अच्छी नींद
      • शारीरिक क्षमता
      • काम करने का उत्साह
      • एकाग्रता

    Ques 4. WHO( World Health Organisation) के अनुसार स्वास्थ्य की परिभाषा क्या है ?

    Ans. स्वास्थ्य (हेल्थ) को WHO ने 1948 में परिभाषित किया था कि स्वास्थ्य एक ऐसी अवस्था है जिसमें मनुष्य का शरीर सामाजिक,शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ हो तथा शरीर में किसी भी प्रकार की बीमारी व विकार ना हो तो इसे ही स्वास्थ्य (हेल्थ) कहते हैं।

    Ques 5. मानसिक स्वास्थ्य की परिभाषा क्या है?

    Ans. WHO के अनुसार यह संतुलन की एक अवस्था है वह व्यक्ति जो जीवन में सामान्य तनाव का सामना करने में सक्षम हो तथा सही व गलत का निर्णय लेने में पूर्ण सक्षम हो और अपने समाज के प्रति योगदान करने में सक्षम हो इसे ही मानसिक स्वास्थ्य (mental health)  कहते है

    Ques 6. सामाजिक स्वास्थ्य की परिभाषा क्या है?

    Ans. सामाजिक स्वास्थ्य (social health) को हम पर्यावरण व समाज से जुड़े संबंधों के आधार पर परिभाषित किया जा सकता है जैसे समाज में लोगों से अच्छे संबंध स्थापित करना वातावरण परिस्थितियों में अपने आप को ढालना आदि।

    Ques 7. आध्यात्मिक स्वास्थ्य स्वास्थ्य की परिभाषा क्या है?

    Ans. आध्यात्मिक स्वास्थ्य (spiritual health) सभी के लिए अलग-अलग होती है जीवन के साथ शांति महसूस करने पर अध्यात्मिक स्वास्थ्य प्राप्त होता है यह तब होता है जब आप सबसे कठिन समय में भी आशा का अनुभव करते हैं।

     

    • स्वास्थ्य की परिभाषा क्या है
    • स्वास्थ्य की परिभाषा क्या है
    • स्वास्थ्य की परिभाषा क्या है

    ASHWANI SIHAG

     

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    error: Content is protected !!

    Discover more from INDIA TODAY ONE

    Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

    Continue reading