• Sat. Jul 20th, 2024

    INDIA TODAY ONE

    Knowledge

    स्वास्थ्य बीमा क्या है | health insurance – प्रकार और लाभ। | 1

    health insurance

    हेलो दोस्तों आपका INDIA TODAY ONE  blog  में स्वागत है मैं आपको बताऊंगा कि health insurance क्या है साथ ही हम यह भी जानेंगे की स्वास्थ्य बीमा करवाने से हमें क्या-क्या फायदे होते हैं स्वास्थ्य बीमा करवाना हमारे लिए क्यों जरूरी है और हमें स्वास्थ्य बीमा करवाना चाहिए या नहीं इस बात पर भी चर्चा करेंगे।

    साथ ही हम इस बात पर भी चर्चा करेंगे की स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी खरीदने का सही समय क्या होता है किस समय हमें स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी खरीदनी चाहिए तथा स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी कितने प्रकार की होती है।

    health insurance

     

    Table of Contents

    स्वास्थ्य बीमा (health insurance) क्या है ?

    स्वास्थ्य बीमा एक प्रकार का एग्रीमेंट यानी समझौता होता है जिसमें बीमा (insurance) देने वाली कंपनी आप के बीमार होने पर आपके मेडिकल खर्चा का भुगतान हॉस्पिटल को करती है।

    स्वास्थ्य बीमा (health insurance) आपको मेडिकल बिल, अस्पताल में भर्ती होने का खर्च, consultation fees, एंबुलेंस शुल्क जैसे खर्च को कवर करके आपको वित्तीय सहायता प्रदान करता है  इसके लिए आपको एक तय समय पर रुपए (प्रीमियम) देने होते है हेल्थ पॉलिसी आप अपने पति या पत्नी आश्रित माता-पिता, बच्चों सहित परिवार के अन्य सदस्यों के लिए ले सकते हैं।

    स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) पॉलिसी के प्रकार :-

    1. व्यक्तिगत स्वास्थ्य बीमा  (Personal Health Insurance) पॉलिसी।
    2. फैमिली फ्लोटर स्वास्थ्य बीमा  ( Family Floater Health Insurance) पॉलिसी।
    3. ग्रुप स्वास्थ्य बीमा ( Group Health Insurance) पॉलिसी।
    4. सीनियर सिटीजन स्वास्थ्य बीमा ( Senior Citizen Health Insurance) पॉलिसी।
    5. मेटेर्निटी स्वास्थ्य बीमा ( Maternity Health Insurance) पॉलिसी।
    6. क्रिटिकल इलनेस स्वास्थ्य बीमा ( Critical Illness Health Insurance) पॉलिसी।

    1. व्यक्तिगत स्वास्थ्य बीमा ( Personal Health Insurance) पॉलिसी :-

    यह व्यक्ति विशेष पॉलिसी है यह पॉलिसी आप अपने परिवार के हर एक सदस्य के लिए ले सकते हैं जैसे आप खुद अपनी पत्नी बच्चे व माता-पिता जैसे कि व्यक्तिगत होने के कारण यह पॉलिसी एक परिवार में हर व्यक्ति के लिए अलग-अलग लिखी जाती है ऐसी पॉलिसी का प्रीमियम भी अधिक बनता है।

    2.फैमिली फ्लोटर स्वास्थ्य बीमा ( Family Floater Health Insurance) पॉलिसी :-

    अगर आप अपने परिवार के सभी सदस्यों के लिए एक सस्ती हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी लेना चाहते हैं तो फैमिली फ्लोटर स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) पॉलिसी आप की पहली पसंद होगी फैमिली फ्लोटर हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के तहत यह इंश्योरेंस पॉलिसी परिवार में सभी सदस्यों के लिए इस्तेमाल होती है इसके अमाउंट को एक दूसरे के साथ बांटा जा सकता है फैमिली फ्लोटर स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) पॉलिसी फायदे मंद है क्योंकि इंडिविजुअल अर्थात् व्यक्तिगत हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी की तुलना में इसका प्रीमियम कम होता है इस पॉलिसी से आप अपने बच्चों, पत्नी व माता-पिता इनको कवर कर सकते है।

    परिवार में 60 साल से अधिक उम्र के व्यक्ति को इस पॉलिसी में जोड़ने का विचार नहीं करना चाहिए जो माता-पिता 60 साल से अधिक आयु के हैं उन्हें इंश्योरेंस कंपनी कवर नहीं करती है अगर कवर किया भी तो प्रीमियम बहुत ज्यादा बढ़ जाएगा अगर आप या आपके परिवार का कोई भी सदस्य 60 साल की आयु से कम है तो आपको फैमिली फ्लोटर स्वास्थ्य बीमा ( Family Floater Health Insurance) पॉलिसी खरीदनी चाहिए।

    3. ग्रुप स्वास्थ्य बीमा ( Group Health Insurance) पॉलिसी :-

    ग्रुप स्वास्थ्य बीमा ( Group Health Insurance) पॉलिसी को एक साथ काम करने वाले इंप्लाइज के ग्रुप के लिए डिजाइन किया गया है अगर आप एक ओनर है किसी भी कंपनी के तो आपको अपने इंप्लाइज के लिए ऐसी पॉलिसी खरीदनी चाहिए यह इंप्लाइज को दिए जाने वाला एक प्रकार का बेनिफिट है।

    4. सीनियर सिटीजन स्वास्थ्य बीमा ( Senior Citizen Health Insurance) पॉलिसी :-

    सीनियर सिटीजन स्वास्थ्य बीमा ( Senior Citizen Health Insurance) पॉलिसी 60 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए डिजाइन की गई है अगर आपके माता-पिता या दादा दादी 60 साल से अधिक उम्र के हैं तो यह कवर उनके लिए एक अच्छा ऑप्शन है सीनियर सिटीजन पॉलिसी दवाइयों की लागत, दुर्घटना या बीमारी की वजह से हॉस्पिटल में भर्ती होने का खर्च । ऐसे खर्चो को कवर करती है।

    5. मेटेर्निटी स्वास्थ्य बीमा ( Maternity Health Insurance) पॉलिसी :-

    मेटेर्निटी स्वास्थ्य बीमा ( Maternity Health Insurance) पॉलिसी जो आप बेस हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के एडॉन के तो पर इसे ले सकते हैं मेटेर्निटी के सारे खर्चे जिसमें परी और पोस्ट डिलीवरी के खर्चे को कवर किया जाता है फैमिली जो आने वाले वर्षों में बच्चे की प्लानिंग बना रहे हैं उन्हें इस पॉलिसी को खरीदना चाहिए बच्चे के बाद में से पहले 90 दिनों का खर्चा शामिल है इस पॉलिसी का मिनिमम वेटिंग पीरियड 2 साल का है।

    6. क्रिटिकल इलनेस स्वास्थ्य बीमा ( Critical Illness Health Insurance) पॉलिसी :-

    नई नई बीमारियों के आने के कारण जैसे कोरोना इन्हीं चीजों को ध्यान में रखते हुए हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियों ने क्रिटिकल इलनेस स्वास्थ्य बीमा ( Critical Illness Health Insurance) पॉलिसी को डिजाइन किया है यह पॉलिसी मीडियम परिवारों के लिए समर्पित है जो अधिक गंभीर बीमारियों का इलाज कराने में सक्षम नहीं होते।

    कैंसर ,हार्टअटैक व कोरोना जैसे गंभीर बीमारियों के लिए यह पॉलिसी सही है यह पॉलिसी आपको देखभाल और अस्पताल में भर्ती खर्चों का भुगतान भी करती है आप हेल्थ चेकअप जैसे फैसिलिटी का लाभ भी उठा सकते हैं।

    👉 यह भी पढ़ें :-

    स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) पॉलिसी प्लान के प्रकार :-

    1. इंडेमनिटी पॉलिसी या हर्जाना

    यह तीन प्रकार की होती है

    1.  मेडिक्लेम पॉलिसी
    2.  टॉप अप प्लान
    3.  सुपर टॉप अप प्लान

    2. फिक्स्ड रकम प्लान

    3. क्रिटिकल इलनेस प्लान या गंभीर बीमारियों के लिए

    4. हॉस्पिटल के रोजमर्रा के खर्चे वाले प्लान

    1. इंडेमनिटी पॉलिसी या हर्जाना :-

    इस पॉलिसी का मतलब है इंश्योरेंस कंपनी आपको कवरेज अमाउंट से ज्यादा का क्लेम नहीं देगी हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी आपके मेडिकल खर्च की भरपाई करती है परंतु कंपनी आपको कवरेज अमाउंट से ज्यादा रकम नहीं देती

    उदाहरण के लिए मान लीजिए आपकी सम अशुर्ड अर्थात् तय की गई राशि यानी ₹200000 है और यदि आपके हॉस्पिटल का बिल ₹250000 हुआ है तो हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी आपको केवल ₹200000 ही देगी बाकी पचास हजार रुपए आपको अपनी जेब से देने होंगे

    इंडेमनिटी पॉलिसी तीन प्रकार की होती है

    (A) मेडिक्लेम पॉलिसी :-

    यह सबसे पॉपुलर पॉलिसी या प्लान है हॉस्पिटल में जाने से पहले से लेकर हॉस्पिटल से निकलने के बाद तक के सारे खर्च को उठाती है जैसे एंबुलेंस का खर्चा ,हॉस्पिटल में होने वाले सभी टेस्ट का खर्चा, ऑपरेशन का खर्चा, इन सभी की भरपाई करता है लेकिन हॉस्पिटल का खर्चा जितना भी हो यह पॉलिसी आपको सम अशुर्ड  अर्थात्  कवरेज अमाउंट के बराबर या उससे कम का ही क्लेम देगी उससे ज्यादा का आपको अपनी जेब से ही देना होगा

    (B) टॉप अप प्लान  :-

    टॉप अप प्लान का मतलब है कि ऊपर या अलग से एक्स्ट्रा कवर लेना यह प्लान आपके मौजूदा  मेडिक्लेम प्लान के  ऊपर या अलग अलग से खरीद सकते हैं 

    जैसे मान लीजिए आपकी पॉलिसी ₹200000 की है आपने थोड़े से पैसे ज्यादा दे दिये है और आपको मिल गया एक टॉप अप प्लान जिसमें आपके ₹500000 का और कवर हो गया  टोटल आपने मेडिकल पॉलिसी ₹200000 की ली थी और ₹500000 का टॉप अप ले लिया कम प्रीमियम में टोटल होकर आपके ₹700000 लाख की मेडिकल पॉलिसी बन गई अर्थात्  टॉप अप  प्लेन आपको उस समय फायदा दे सकता है जब  आपके हॉस्पिटल का खर्च आपकी मेडिकल पॉलिसी से ज्यादा हो जाए  आप अपनी हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी से मिली मेडिकल पॉलिसी के ऊपर भी टॉप अप प्लान अलग से ले सकते हैं

    (C) सुपर टॉप अप प्लान :-

           इसमें आप  टॉप अप प्लान से भी ज्यादा एक्स्ट्रा कवर ले सकते हैं

    2. फिक्स्ड रकम प्लान :-

    यह इंडेमनिटी पॉलिसी से बिल्कुल उल्टा है मान लीजिए आपके हॉस्पिटल का जितना भी खर्चा हो आपको सिर्फ एक निश्चित रकम ही मिलेगी जो आपने अपने प्लान में तय कि थी।

    उदाहरण के लिए मान लीजिए अगर आप हॉस्पिटल में भर्ती होते हैं और आपका प्रतिदिन एक्सपेंस आपने तये किया था ₹7000 और आपका खर्च हो रहा है ₹8000 तो भी आपको ₹7000 ही मिलेंगे अगर आप का खर्च हो रहा है ₹6000 तो भी आपको ₹7000 ही मिलेंगे यह फिक्स्ड अमाउंट प्लान है ।

    3.क्रिटिकल इलनेस प्लान या गंभीर बीमारियों के लिए :-

    यह गंभीर बीमारियों के लिए पॉलिसी ली जाती है जैसे दिल की बीमारी, कैंसर, एड्स  इन सभी गंभीर बीमारियों का कवर क्रिटिकल इलनेस पॉलिसी द्वारा किया जाता है

    गंभीर बीमारियों के प्लेन आजकल ज्यादा पसंद किए जाते हैं इन प्लेन में गंभीर बीमारियों के लिए खास कवर बनाए जाते हैं  इन बीमारियों की सूची अलग-अलग प्लेन के अनुसार बदलती रहती है। बीमारी का पता चलते ही हॉस्पिटल में भर्ती होने और इलाज के खर्च  इंश्योरेंस कंपनी के द्वारा किए जाती है। इसके अलावा इंश्योरेंस कंपनी एक फिक्स्ड  रकम भी देती है जो आगे के इलाज में काम आती है

    4. हॉस्पिटल के रोजमर्रा के खर्चे वाले प्लान :-

    यह प्लान हॉस्पिटल के रोजमर्रा में होने वाले खर्चों के लिए एक फिक्स राशि देता है हॉस्पिटल का पूरा खर्च कितना भी हो इस प्लान में आपको सिर्फ वही फिक्स राशि मिलती है जिसका आपने प्लान लिया है

    “इसलिए आप अपने लिए सोच समझकर पॉलिसी का चुनाव करें”

    स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) के लाभ :-

    •  कैशलेस इलाज :-

    • कैशलेस इलाज का मतलब है हॉस्पिटल में इलाज के दौरान जेब से एक भी पैसा ना देना आपके सारे खर्च इंश्योरेंस कंपनी की जिम्मेदारी होती है एक अच्छी वे बड़ी इंश्योरेंस कंपनी देश के कई हॉस्पिटल के साथ कैशलेस इलाज के लिए टाई अप करती है
    • एक अच्छी इंश्योरेंस कंपनी हॉस्पिटल में भर्ती होने के 60 दिन पहले और 60 दिन बाद तक के इलाज के खर्च की भरपाई करती है यह 60 दिन अलग-अलग हेल्थ इंश्योरेंस प्लेन के अनुसार थोड़े कम या ज्यादा हो सकते हैं
    • घर से हॉस्पिटल व हॉस्पिटल से घर तक एंबुलेंस के आने-जाने का खर्च भी एक अच्छी हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी देती है
    • लगभग सभी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी आपको एक फ्री हेल्थ चेकअप का ऑफर देती है तो आप इसका फायदा जरूर उठाएं लेकिन यह हेल्थ चेकअप तभी संभव है जब आप ने पिछले साल में कोई क्लेम ना लिया हो
    • लगभग सभी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी हॉस्पिटल के कमरे के किराए के खर्चों की भरपाई करती है
    • हेल्थ इंश्योरेंस खरीदने पर आपको इनकम टैक्स में छूट मिलती है
    • आजकल सभी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी प्लान हॉस्पिटल के ओपीडी के खर्च की भरपाई करते हैं।
    • बेवजह खर्च से बचने मैं मददगार÷

    बढ़ती महंगाई के साथ मेडिकल का खर्च भी बढ़ता जा रहा है बेहतर डिजाइन किया गया एक हेल्थ कवर यह सुनिश्चित करता है। कि आपकी सारी मेहनत की कमाई अस्पताल के बिलों के भुगतान  पर खर्च ना हो साथ ही स्वास्थ्य बीमा आपको पैसे की चिंता किए बिना अच्छा उपचार प्राप्त करने की स्वतंत्रता देता है। मेडिकल इमरजेंसी के समय आप उपचार के बढ़ते खर्च की चिंता किए बिना एक अच्छा इलाज करवा सकते हैं। इस प्रकार हेल्थ इंश्योरेंस मेडिकल खर्चा मैं आपके लिए बेहतर मददगार साबित होता है।

    • मानसिक शांति और सुरक्षा :-

    हेल्थ इंश्योरेंस आपको मानसिक शांति और सुरक्षा प्रदान करता है। अगर आप बीमा करता के नेटवर्क अस्पताल में भर्ती हैं। तो स्वास्थ्य बीमा नकदी रहित उपचार की सुविधा ले सकते हैं  इसका मतलब है । आपको इलाज के लिए कुछ भी भुगतान करने की जरूरत नहीं है। सिवाय उन खर्चों के जिन्हें आप की पॉलिसी कवर नहीं करती है या कुछ गैर चिकित्सा खर्च जो वह  कवर नहीं करती है । इस प्रकार इलाज के लिए हेल्थ इंश्योरेंस द्वारा रुपयो की सहायता मिलने पर व्यक्ति पर मानसिक दबाव नहीं पड़ता  और वह शांतिपूर्वक इलाज करवा सकता है। इस प्रकार हेल्थ इंश्योरेंस मानसिक शांति और सुरक्षा प्रदान करती है।

    • मिलेगा टैक्स का लाभ :-

    हेल्थ इंश्योरेंस आयकर अधिनियम 1961 की धारा 80 डी के तहत टैक्स में कुछ छूट भी प्रदान करता है। आप हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदने के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम पर कर लाभ प्राप्त कर सकते हैं आप अपने व अपने जीवनसाथी और आश्रित बच्चों के लिए भुगतान किए ने प्रीमियम पर ₹25000 तक की कर छूट का दावा कर सकते हैं ।  

    स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) पॉलिसी खरीदने का सही समय :-

    हेल्थ इंश्योरेंस के बारे में सबसे बड़ा मिथ यह है। कि  लोग सोचते हैं। अगर वह युवा है। और स्वस्थ है तो उन्हें बीमा करवाने की जरूरत नहीं है। पर इसे हर किसी को समझना चाहिए कि हेल्थ इंश्योरेंस में प्रीमियम कैलकुलेशन में सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से एक  बीमित व्यक्ति की आयु है। आप जितने छोटे होंगे प्रीमियम उतना ही कम होगा साथ ही अधिकांश पॉलिसी में कुछ बीमारियों के लिए प्रतिरक्षा अवधि होती है। जिसका मतलब है जब तक आप प्रतिरक्षा अवधि  पूरी नहीं कर लेते हैं ।तब तक आप उन बीमारियों के लिए क्लेम फाइल नहीं कर सकते हैं। कम उम्र में हेल्थ कवर खरीदना सुनिश्चित करता है। कि आप बिना किसी चिंता के प्रतिरक्षा अवधि पूरी कर सकते हैं। कम उम्र में आपको बीमारी से पीड़ित होने की संभावना कम होती है। अतः कम उम्र में ही हेल्थ पॉलिसी खरीदना उचित होगा।

    CONCLUSION

    दोस्तों मैं इस लेख के अंत में अपना अनुभव बताता हूं। इस बात पर हम चर्चा कर चुके हैं कि स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) क्या है। और हम यह भी जान चुके हैं कि यह कितने प्रकार की होती है तथा इसके क्या-क्या फायदे हैं। मेरे अपने अनुभव से तो यही कहना है कि आज के समय मैं इन फायदों को देखते हुए स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी लेनी चाहिए।

    FAQ

    Ques-1 स्वास्थ्य बीमा क्या है सरल शब्दों में?

      स्वास्थ्य बीमा  एक प्रकार का एग्रीमेंट यानी समझौता होता है जिसमें बीमा  (इंश्योरेंस) देने वाली कंपनी आप के बीमार होने पर आपके मेडिकल खर्चा का भुगतान हॉस्पिटल को करती है।

    Ques-2 स्वास्थ्य बीमा कितने प्रकार के होते हैं?

    स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) पॉलिसी के प्रकार :-

    1.  व्यक्तिगत स्वास्थ्य बीमा  (Personal Health Insurance) पॉलिसी
    2.  फैमिली फ्लोटर स्वास्थ्य बीमा  ( Family Floater Health Insurance) पॉलिसी
    3.  ग्रुप स्वास्थ्य बीमा ( Group Health Insurance) पॉलिसी
    4.  सीनियर सिटीजन स्वास्थ्य बीमा ( Senior Citizen Health Insurance) पॉलिसी
    5.  मेटेर्निटी स्वास्थ्य बीमा ( Maternity Health Insurance) पॉलिसी
    6.  क्रिटिकल इलनेस स्वास्थ्य बीमा ( Critical Illness Health Insurance) पॉलिसी

    Ques-3 सबसे अच्छा स्वास्थ्य बीमा कौन सा है?

    फैमिली फ्लोटर स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) पॉलिसी÷

     अगर आप अपने परिवार के सभी सदस्यों के लिए एक सस्ती हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी लेना चाहते हैं तो फैमिली फ्लोटर स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) पॉलिसी आप की पहली पसंद होगी फैमिली फ्लोटर हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के तहत यह इंश्योरेंस पॉलिसी परिवार में सभी सदस्यों के लिए इस्तेमाल होती है इसके अमाउंट को एक दूसरे के साथ बांटा जा सकता है फैमिली फ्लोटर स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) पॉलिसी फायदे मंद है क्योंकि इंडिविजुअल अर्थात् व्यक्तिगत हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी की तुलना में इसका प्रीमियम कम होता है इस पॉलिसी से आप अपने बच्चों, पत्नी व माता-पिता इनको कवर कर सकते है।

    परिवार में 60 साल से अधिक उम्र के व्यक्ति को इस पॉलिसी में जोड़ने का विचार नहीं करना चाहिए जो माता-पिता 60 साल से अधिक आयु के हैं उन्हें इंश्योरेंस कंपनी कवर नहीं करती है अगर कवर किया भी तो प्रीमियम बहुत ज्यादा बढ़ जाएगा अगर आप या आपके परिवार का कोई भी सदस्य 60 साल की आयु से कम है तो आपको फैमिली फ्लोटर स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) पॉलिसी खरीदनी चाहिए

    Ques-4 हेल्थ इंश्योरेंस के क्या लाभ है?

    1. बेवजह खर्च से बचने मैं मददगार
    2. मानसिक शांति और सुरक्षा
    3. मिलेगा टैक्स का लाभ
    4. कैशलेस इलाज

     

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    error: Content is protected !!

    Discover more from INDIA TODAY ONE

    Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

    Continue reading